अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और उसकी सहयोगियों ने फर्म के पूर्वी अपतटीय केजी-डी6 ब्लॉक में खोजी गई गैस की तीन चौथाई से अधिक मात्रा खरीद ली है, जिसकी सरकार द्वारा तय कीमत, आयातित दर के मुकाबले आधे से भी कम है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।





रिलायंस और उसकी साझेदार ब्रिटेन की बीपी पीएलसी ने पिछले सप्ताह केजी-डी6 ब्लॉक में नई खोजों से निकलने वाली गैस की 55 लाख घन मीटर गैस प्रतिदिन आपूर्ति करने की की नीलामी आयोजित की थी। मामले की सीधी जानकारी रखने वाले तीन सूत्रों ने कहा कि नीलामी में रिलायंस के तेल से रसायन (ओ2सी) का कारोबार करने वाली इकाई ने 3.2 घन मीटर गैस उठाई। उन्होंने यह भी बताया कि गैस क्रय एवं और विपणन के लिए रिलायंस और बीपी की ओर से मिल कर स्थापित संयुक्त उद्यम इंडिया गैस सॉल्युशंस (आईजीएस) ने दैनिक दस लाख घनमीटर गैस के लिए बोली लगायी ।


गैस की शेष मात्रा अडाणी गैस (01.5घन मीटर/दैनिक), आईआरएम एनर्जी (1.0 लाख घन मीटर), गेल (30,000 घन मीटर प्रतिदिन) और टोरेंट गैस (20,000 घन मीटर प्रतिदिन) ने उठाई। सूत्रों ने कहा कि ई-नीलामी में उभरी कीमत जेकेएम (जापान-कोरिया मार्कर) एलएनजी की कीमत के मुकाबले 0.06 डॉलर कम है।