अरबपति गौतम अदानी की पोर्ट से लेकर एनर्जी सेक्टर तक में काम करने वाली अदानी ग्रुप 100 अरब डॉलर का मार्केट कैप पार करते हुए भारत का तीसरा सबसे बड़ा कारोबारी समूह बन गया है। ACE इक्विटी के आंकड़ों के मुताबिक, अदानी समूह की सभी लिस्टेड कंपनियों का संयुक्त मार्केट कैप आज 100 अरब ड़ॉलर पार कर गया है। 


इस ग्रुप के सभी 6 शेयरों ने अब तक मल्टी बैगर रिटर्न दिए हैं। इनमें कम से कम 4 शेयर ऐसे हैं जो अपने रिकॉर्ड हाई पर कारोबार कर रहे हैं। मनीकंट्रोल से बाजार जानकारों ने कहा है कि जिन निवेशकों को अदानी ग्रुप के शेयरों पर बड़ा मुनाफा हो रहा है। उनको मुनाफा वसूली कर लेनी चाहिए। हालांकि ग्रुप के शेयरों का लॉन्गटर्म आउटलुक अभी भी मजबूत बना हुआ है। ऐसी स्थिति में अदानी ग्रुप के शेयरों में कोई गिरावट मिलने पर इनमें फिर से खरीदारी करनी चाहिए।





मनीकंट्रोल से अदानी ग्रुप के शेयरों पर बात करने वाले अधिकांश फंडामेंटल एनीलिस्ट का कहना है कि ग्रुप के शेयरों में अभी भी बहुत संभावना बची हुई है। वहीं टेक्निकल एनालिस्ट का कहना है कि जिन लोगों को अदानी ग्रुप के शेयरों में अच्छा फायदा हो रहा है, उन्हें कुछ मुनाफा वसूली कर लेनी चाहिए।


अदानी ग्रीन  पर ग्रीन पोर्टफोलियो सर्विसेज के अनुज जैन का कहना है कि आगे भारत में पूरे देश में ग्रीन एनर्जी पर बड़े काम होते दिखेंगे। जिसका फायदा अदानी ग्रीन जैसी कंपनियों को हो सकता है। लेकिन अब यह शेयर काफी मंहगा नजर आ रहा है। आगे इसमें बिकवाली का नजर देखने को मिल सकती है।


अदानी टोटल गैस और अदानी ट्रांसमिशन पर अनुज जैन की राय है कि इस शेयर का वैल्यूएशन भी वर्तमान स्तरों पर महंगा नजर आ रहा है। और इसमें नए निवेश के सलाह की संभावना नहीं होगी। अदानी पॉवर में भी जैन की वर्तमान स्तर पर दूर रहने की सलाह है।


अदानी एंटरप्राइज ही अदानी ग्रुप का एक मात्र शेयर है  जिसमें अनुज जैन को अभी भी ग्रोथ की संभावना दिख रही है। कंपनी के ऑर्डर बुक काफी मजबूत हैं। सिविल एविएश में भी कंपनी की काफी अच्छी पकड़ है। नियर फ्यूचर में कंपनी के कुछ कारोबार का डिमर्जर हो सकता है। जिससे निवेशकों को फायदा हो सकता है।