क्या क्रिप्टोकरेंसी के भविष्य को लेकर जिस तरह के सवाल उठ रहे हैं, अब उसकी महत्ता नहीं रह गई है? यह (tesla model y)  सवाल इसलिए क्योंकि दुनिया के सबसे रईस एलन मस्क की कंपनी टेस्ला ने Bitcoin में 1.5 अरब डॉलर (10 हजार करोड़ से ज्यादा) का निवेश किया है. टेस्ला ने यह जानकारी अमेरिकी एक्सचेंज कमिशन (US Securities and Exchange Commission) को दी है. इस खबर के बाहर आते ही बिटक्वॉइन की कीमत 44 हजार डॉलर पार कर गई. Tesla ने यह भी कहा कि वह अब बिटक्वॉइन में अपने प्रोडक्ट के लिए पेमेंट भी लेगा.

                             


पिछले दिनों टेस्ला ने क्रिप्टोकरेंसी में निवेश में अपनी दिलचस्पी दिखाई थी. रेग्युलेटरी फाइलिंग में टेस्ला की तरफ (tesla model y)  से कहा गया है कि कंपनी ने इन्वेस्टमेंट पॉलिसी में बदलाव किया है. हम अब बेहतर रिटर्न पर फोकस कर रहे हैं. ऑपरेटिंग लिक्विडिटी के अलावा जिस फंड का अभी इस्तेमाल नहीं हो रहा है, कंपनी उस (tesla model y)  पर ज्यादा से ज्यादा रिटर्न पाना चाहती है. इसके लिए पोर्टफोलियों में अब क्रिप्टोकरेंसी को भी शामिल किया गया है. कंपनी की तरफ से यह भी कहा गया कि हम बहुत जल्द बिटक्वॉइन पेमेंट लेना शुरू करेंगे. हालांकि, इसके साथ अभी कुछ कानूनी बाधाएं हैं.


दुनिया की पहली कार कंपनी जो बिटक्वॉइन में लेगी पेमेंट

अपनी घोषणा के बाद टेस्ला दुनिया की पहली कार कंपनी बन गई है जो अब बिटक्वॉइन या किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में पमेंट लेगी. Wedbush’s analyst, Dan Ives, का कहना है कि टेस्ला के इस फैसले का बड़ा असर होगा. ट्रांजैक्श में बिटक्वॉइन के प्रचलन को इससे काफी मदद मिल सकती है. मस्क के निवेश के बाद अब माना जा रहा है कि (tesla model y)  क्रिप्टोकरेंसी का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है और धीरे-धीरे इसमें विश्वसनीयता भी आ रही है.


डिजिटल करेंसी को लेकर RBI भी तेजी से कर रहा है काम

बता दें कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी अपना डिजिटल करेंसी लाने पर विचार कर रहा है. मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के डिप्टी गवर्नर बीपी कानूनगो ने कहा था कि एक इंटर्नल (tesla model y)  कमिटी सेंट्रल बैंक की डिजिटल करेंसी जारी करने के तौर-तरीकों पर गौर कर रही है और बहुत जल्दी ही इस बारे में अपनी सिफारिश प्रस्तुत करेगी. बिटकॉइन जैसे क्रिप्टोकरेंसी के प्रसार के बीच यह घोषणा की गई थी. इस मुद्रा को लेकर RBI की कई चिंताएं हैं. सरकार ने प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी बंद करने के लिए कदम उठाया था.