देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का होम लोन बिजनेस 5 लाख करोड़ रुपए को पार कर गया है। 2024 तक बैंक ने इसे बढ़ाकर 7 लाख करोड़ रुपए तक करने का लक्ष्य रखा है। पिछले 10 सालों में होम लोन बिजनेस 5 गुना बढ़ा है। बैंक ने बुधवार को यह जानकारी दी।

                                 

बैंक ने बताया कि औसतन हर दिन करीबन 1 हजार होम लोन दिया जाता है। बैंक इस समय 6.8% सालाना ब्याज दर पर होम लोन दे रहा है। नए होम लोन ग्राहकों के लिए इसने मिस्ड कॉल की सुविधा शुरू की है जिस पर होम लोन की पूरी जानकारी पाई जा सकती है। बैंक ने इस दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के तहत 2 लाख करोड़ रुपए का होम लोन दिया है। बैंक ने बताया कि रियल इस्टेट और हाउसिंग बिजनेस यूनिट का बिजनेस 2011 में 89,000 करोड़ रुपए था। 2021 में यह बढ़ कर 5 लाख करोड़ रुपए हो गया है।

रियल इस्टेट सेक्टर बुरे दौर से गुजर रहा है

बैंक ने कहा कि यह उपलब्धि तब हासिल हुई है जब रियल इस्टेट सेक्टर बुरे दौर से गुजर रहा था और साथ ही पिछला एक साल कोरोना की महामारी और लॉकडाउन में चला गया। बैंक ने कहा कि दिसंबर 2020 में इसके होम लोन में काफी अच्छी ग्रोथ रही है। इसने लोन सोर्सिंग, मंजूरी और लोन का वितरण अच्छी तरह से किया।

ग्राहकों का विश्वास लगातार बना हुआ है

बैंक के चेयरमैन दिनेश खारा ने कहा कि इस उपलब्धि से यह साबित होता है कि ग्राहकों का भरोसा बैंक के ऊपर लगातार बना हुआ है। इस उपलब्धि में टेक्नोलॉजी और पर्सनलाइज्ड सेवा सबसे महत्वपूर्ण रही है। बैंक ढेर सारी डिजिटल पहल पर काम कर रहा है ताकि होम लोन डिलिवरी में और ज्यादा सुविधा लाई जा सके। उन्होंने कहा कि होम लोन में एसबीआई मार्केट लीडर है जो शुरू से लेकर अंत तक डिजिटल सोल्यूशन देता है।

बैंक के होम लोन प्रोडक्ट में रेगुलर होम लोन, एसबीआई प्रिविलेज होम लोन, एसबीआई शौर्य होम लोन, एसबीआई मैक्स गेन होम लोन, स्मार्ट होम लोन, टॉप अप लोन, एनआरआई होम लोन, फ्लैक्सी प्ले होम लोन और एसबीआई हर घर होम लोन शामिल हैं।

दिसंबर तक 1.94 लाख होम लोन बांटे गए

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बैंक ने दिसंबर 2020 तक 1 लाख 94 हजार 582 होम लोन को मंजूर किया है। देश में कुल होम लोन में अकेले SBI का मार्केट शेयर 34% के करीब है। बैंक ने होम लोन पर मार्च 2021 पर पूरी प्रोसेसिंग फीस को माफ कर दिया है। यह खुद अप्रूव्ड प्रोजेक्ट पर भी होम लोन देता है। बैंक ने कहा कि वह होम लोन के मामले में कुछ और प्वाइंट पर काम कर रहा है।

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और क्लाउड पर फोकस

आगे चलकर बैंक होम लोन में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, क्लाउड, ब्लॉकचेन आदि पर काम करेगा। यह सभी होम लोन के अलावा दूसरे बिजनेस में भी मदद करेंगे। बैंक असंगठित सेक्टर में होम लोन को तेजी देने के लिए को-लेंडिंग मॉडल पर काम कर रहा है। इसके लिए वह अपनी टेक्नोलॉजी और शाखाओं को मजबूत कर रहा है। इसके लिए 215 सेंटर पर सेंट्रल प्रोसेसिंग सेंटर (CPC), डिजिटल और लाइफ स्टाइल प्लेटफॉर्म, योनो और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म को तैयार कर रहा है।

ग्राहकों को ढेर च्वॉइस देने की योजना

बैंक लगातार बिल्डर्स के साथ एग्रीमेंट कर रहा है ताकि घर खरीदने वालों को और ज्यादा च्वॉइस मिल सके। बैंक ने 2004 में 17 हजार करोड़ रुपए से होम लोन बिजनेस की शुरुआत की थी। होम लोन में 10 साल बाद ही यानी 2014 में बैंक मार्केट लीडर बन गया था और तब से यह इस पोजीशन को बनाए रखा है। 31 दिसंबर 2020 तक बैंक की कुल जमा राशि (डिपॉजिट) 35 लाख करोड़ रुपए की रही है। जबकि उधारी 26 लाख करोड़ रुपए की रही है।

ऑटो लोन में 33 पर्सेंट हिस्सेदारी

ऑटो लोन में इसकी बाजार हिस्सेदारी 33% है। बैंक की 22 हजार शाखाएं हैं और 58 हजार एटीएम हैं। 71 हजार बिजनेस करेस्पांडेंट हैं। इसके 8.5 करोड़ ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते हैं। 1.9 करोड़ ग्राहक मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करते हैं। 7.4 करोड़ ग्राहकों ने योनो ऐप को डाउनलोड किया है। इस पर 3.45 करोड़ रजिस्टर्ड ग्राहक हैं। हर दिन 90 लाख ग्राहक लॉग इन करते हैं।