कच्चे तेल का बाजार (Crude Oil Market) चढ़ता ही जा रहा है। तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक प्लस (OPEC+) देशों की ज्वाइंट मिनिस्ट्रियल माॅनिटरिंग कमेटी (JMMC) की बैठक बीते बुधवार को ही संपन्न हुई थी। उसमें फरवरी के दौरान कच्चे तेल के उत्पादन (Crude Oil Production) को वर्तमान स्तर पर ही बनाए रखने का फैसला हुआ था। इससे कच्चे तेल का बाजार (Crude Oil Market) फिर तेज हो गया। 

इधर घरेलू बाजार (Domestic Market) में देखें तो आज फिर दोनों ईंधनों में आग लगी। यह 30-30 पैसे प्रति लीटर चढ़ गया। इससे एक दिन पहले भी यह 35-35 पैसे प्रति लीटर चढ़ा था। उससे पहले, पिछले सात दिनों से दाम स्थिर थे। दिल्ली में शुक्रवार को पेट्रोल जहां 86.95 रुपये प्रति लीटर पर चढ़ गया तो डीजल 77.13 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया। यह सर्वकालिक उच्चतम स्तर (All Time High) है।


नए साल में 03.24 रुपये महंगा हो चुका है पेट्रोल
नया साल पेट्रोलियम ईंधनों (Petroleum Fuels) के लिए अच्छा नहीं रहा है। यूं तो बीते जनवरी और फरवरी में महज 12 दिन ही पेट्रोल महंगा हुआ, लेकिन इतने दिनों में ही यह 03.24 रुपये महंगा हो गया है। इससे लगभग सभी शहरों में पेट्रोल All Time High Price पर चला गया। इससे पहले, बीते साल की दूसरी छमाही में भी पेट्रोल के दाम खूब बढ़े। देखा जाए तो बीते 10 महीने में ही इसके दाम में करीब 17 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो चुकी है।

                            petrol-diesel-prices-peak-to-fresh-record-high-as-fuel-rates-

--------------------------------
Must Read

1) आरोपावर धनंजय मुंडेंचा खुलासा, म्हणाले…

2) ग्राहकांना झटका! बजेट 2021 नंतर 25 रुपयांनी वधारल्या गॅसच्या किंमती

3) SBI मध्ये खातं असेल तर KYC साठी ही कागदपत्र आवश्यक

--------------------------------


डीजल भी हुआ है 03.26 रुपये महंगा
पेट्रोल के साथ साथ डीजल की कीमत भी रिकार्ड बनाने की राह पर अग्रसर है। कल भी डीजल 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ था। आज फिर यह 30 पैसे प्रति लीटर चढ़ गया। नए साल में 12 दिनों में ही डीजल 03.26 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। यह भी सर्वकालिक उच्चतम स्तर (All Time High) पर है। देखा जाए तो पिछले 10 महीने में ही इसके दाम में 15 रुपये से अधिक की बढ़ोतरी हो चुकी है।