भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को अपनी मौद्रिक नीति का एलान किया. उसने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया. इससे बैंकिंग और रियल्टी कंपनियों के शेयरों में अच्छी तेजी देखने को मिली. बैंकिंग सेक्टर के एनएसई सूचकांक 'बैंक निफ्टी' सवा दो फीसदी चढ़ गया. आरबीआई की छह सदस्यीय मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) ने ब्याज दरों को स्थिर बनाए रखने का फैसला किया. 




इस समिति की अगुवाई आरबीआई के गर्वनर शक्तिकांत दास ने की. यह  चालू वित्त वर्ष की अंतिम समीक्षा बैठक थी. एमपीसी हर दो महीनों में ब्याज दरों की समीक्षा करती है. एमपीसी ने रेपो रेट को 4 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट को 3.35 फीसदी पर कायम रखा.




रिजर्व बैंक के ऐलान के बाद बैंक निफ्टी सवा दो फीसदी तक मजबूत हुआ, जबकि  रियल्टी इंडेक्स ने डेढ़ फीसदी तक की छलांग लगाई. बैंक निफ्टी ने शुक्रवार को पहली दफा 36,000 का स्तर पार किया. हालांकि, ऑटो इंडेक्स ने डेढ़ फीसदी तक की कमजोरी दिखाई.

सरकारी बैंक इंडेक्स ने पौने छह फीसदी तक की जमबूती हासिल की. सरकारी बैंकों (आरबीआई)  में भारतीय स्टेट बैंक के शेयरों ने 13 फीसदी की छलांग लगाई. इंडियन बैंक 6.25 फीसदी और बैंक ऑफ इंडिया के शेयर 5.5 फीसदी तक मजबूत हुए. 


इंडियन बैंक 6.25 फीसदी और बैंक ऑफ इंडिया के शेयर 5.5 फीसदी तक मजबूत हुए. इंडेक्स पर सिर्फ इंडियन ओवरसीज बैंक के शेयरों ने निराश किया.

निजी बैंकों की बात करें, तो कोटक महिंद्रा बैंक के शेयर में सबसे ज्यादा 4 फीसदी (आरबीआई) तेजी आई. इंडसइंड बैंक और एचडीएफसी बैंक ने भी इंडेक्स को मजबूत प्रदान की. आरबीएल बैंक, एक्सिस बैंक, बंधन बैंक और आईसीआईसीआई बैंक ही इंडेक्स पर लाल निशान में नजर आए.