बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने चीन के साथ व्यापार जारी रखने का पक्ष लेते हुए शनिवार को कहा कि वस्तुओं की खरीद वहीं से की जानी चाहिए, जहां वे अधिक प्रतिस्पर्धी दर पर उपलब्ध हैं. बजाज एशिया ‘इकोनॉमिक डायलॉग 2021’ शीर्षक आर्थिक परिचर्चा के दूसरे दिन ‘भरोसेमंद आपूर्ति श्रृंखला तैयार करने’ पर एक सत्र में बोल रहे थे. यह तीन दिवसीय आभासी आयोजन विदेश मंत्रालय और पुणे इंटरनेशनल सेंटर ने मिलकर किया है.





बजाज ने यह भी कहा कि व्यापार करने में सुगमता के संदर्भ में आसियान देशों में से एक में कारोबार करना निश्चित रूप से उसकी तुलना में आसान है, जिसका सामना हम भारत में करते हैं. बजाज ने कहा, ”और इसीलिए मेरा मानना ​​है कि हमें चीन के साथ व्यापार करना जारी रखना चाहिए, क्योंकि अगर हम अपना व्यापार इतने बड़े देश, इतने बड़े बाजार के साथ बंद करते हैं, तो हम समय के साथ खुद को अधूरा पाएंगे और हमें नुकसान होगा.”

बिजनेस में कमिटमेंट काफी अहम

राजीव बजाज ने कहा कि जब बिजनेस करते हैं तो सप्लाई चेन में कमिटमेंट काफी अहम होता है. उन्होंने कहा कि खासकर ऑटो सेक्टर में परस्पर संबंध और कमिटमेंट काफी अहम है. कस्टमर तक समय पर और अच्छी क्वॉलिटी का प्रोडक्ट पहुंचे, उसके लिए यह गुण जरूरी है. उन्होंने कहा कि सरकार ने पिछले साल जून और जुलाई में चीन से होने वाले निर्यात पर जिस तरह पाबंदियां लगाई थी, उसे अगर फिर से लागू किया जाता है तो इंडस्ट्री को बहुत नुकसान होगा.

जहां मिले सस्ता, वहीं से हो खरीदारी

बजाज ने कहा कि जो प्रोडक्ट डमेस्टिक मार्केट में बनता ही नहीं है उसके आयात पर रोक का फैसला कैसे लिया जा सकता है. ऐसे में सप्लाई चेन को जारी रखना काफी अहम है. अगर चीन के मुकाबले थाईलैंड या किसी और देश से आयात करना सस्ता होता है तो, हमें केवल उस देश से खरीदारी करनी चाहिए जहां का रेट ज्यादा कॉम्पिटिटीव हो.