एलन मस्क के नाम से कौन वाकिफ नहीं है. पूरी दुनिया में उनकी गिनती बड़े कारोबारियों में (best 5g network)  होती है. अब एलन मस्क का इरादा भारत में बिजनेस करने का है. स्टारलिंक प्रोजेक्ट के आधार पर एलन मस्क ने भारत सरकार से बिजनेस करने देने की इजाजत मांगी है. अब देखना होगा कि भारत सरकार क्या फैसला करती है. 


                              

क्या है स्टारलिंक प्रोजेक्ट

टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने देश में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी (Broadband Connectivity) को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल अगस्त में एक कंसल्टेशन पेपर जारी किया था. इसके बाद SpaceX ने भारत से बिजनेस करने देने के लिए इजाजत मांगी है. SpaceX की Vice President of Satellite Government Affairs पैट्रीशिया कूपर (best 5g network)  (Patricia Cooper) ने कहा कि स्टारलिंक के हाई स्पीड सैटेलाइट नेटवर्क से भारत के सभी लोगों को ब्रॉडबैंक कनेक्टिविटी से जोड़ने के लक्ष्य में मदद मिलेगी.

SpaceX कंपनी का प्रोफाइल

स्पेस एक्सप्लोरेशन टेक्नोलॉजीज कॉरपोरेशन (SpaceX) ने स्टारलिंक इंटरनेट सर्विस के लिए 1 हजार से भी ज्यादा सैटेलाइट छोड़े हैं. अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा में SpaceX के लाखों ग्राहक हैं. SpaceX ने निवेशकों से कहा है कि स्टारलिंक की नजर इन-फ्लाइट इंटरनेट, (best 5g network) मैरिटाइम सर्विसेज, भारत और चीन में डिमांड और ग्रामीण इलाकों पर है. यह पूरा बाजार एक ट्रिलियन डॉलर का है. कई महीनों से SpaceX अपने Falcon 9 रॉकेट्स से स्टारलिंक सैटेलाइट्स लॉन्च करने में लगी है.  एक बार में 60 सैटेलाइट भेजे जा रहे हैं. 17वां स्टारलिंक हाल ही में 20 जनवरी को लॉन्च किया गया था. ऑर्बिट में कंपनी के 960 सैटेलाइट एक्टिव हैं. 


आसान नहीं है SpaceX की राह

अगर  SpaceX के स्टारलिंक प्रोजेक्ट को भारत में एंट्री मिल जाती है तो रिलायंस ग्रुप से उसे कड़ी टक्कर मिलेगी. मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो (Reliance Jio) से SpaceX का मुकाबला होगा. बैंक ऑफ अमेरिका ग्लोबल रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार जियो 4जी रोलआउट भारत के इंटरनेट क्षेत्र के लिए गेम चेंजर साबित हुआ है. Jio ने किफायती दामों पर यूजर्स (best 5g network)  को इंटरनेट मुहैया कराया है जिससे बड़े पैमाने पर डेटा उपयोग को बढ़ावा मिला है. भारत में अब करीब 65 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं जो औसतन 12 GB डेटा हर महीना इस्तेमाल करते हैं. जियो ने सस्ती कीमतों पर डेटा और सेवाएं प्रदान करके बाजार को नई ऊंचाई तक पहुंचाया है. ऐसे में SpaceX की राह आसान नजर नहीं आती.